12/11/2017

अंडे खाने वाले इस खबर को जरूर पढ़े

अंडे खाने वाले इस खबर को जरूर पढ़े




अण्डे खाना सबको अच्छा लगता है, लेकिन ठंड के मौसम में अंडे खाने का आनंद अलग ही आता है। सब लोग अंडो को अलग-अलग तरीके की डिश बनाकर खाते हैं, कोई ऑमलेट बनाकर खाना पसंद करते है, तो कोई केवल उबालकर खाना खाना पसंद करते है। अंडो को किस प्रकार बनाकर खाना चाहिए आज इस पर चर्चा करने वाले है।

अंडे का ऑमलेट बनाकर खाना क्यों सही नही है
जिन लोगों को ऑमलेट खाना बहुत पसंद है, उनके लिए यह दुख की बात होगी। क्योंकि ऑमलेट बनाने के लिए तेल का बहुत ज्यादा प्रयोग करते हैं। इसके कारण रक्त में फैट अर्थात् कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है। ज्यादा तेल खाना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। अंडो को तेल में तलने से उसने से पोषक तत्व खत्म हो जाते है।
अंडो को उबालकर क्यो खाने चाहिए
अंडा खाने के लिए सबसे अच्छा तरीका है कि उसे उबालकर खाए, जो लोग उबालकर खाते हैं उन्हें कोई नुकसान नहीं होता है। उबले हुए अंडे अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखते हैं, इसमे कैल्शियम कि मात्रा पाईजाती है जिससे हड्डियाँ मजबूत होती है। पोषक तत्व बने रहते हैं, इसलिए अंडे को उबालकर ही खाना चाहिए।
आपको हमारी यह जानकारी कैसी लगी, यह अच्छी लगी हो तो हमें फॉलो करे ताकि हमारी सभी पोस्ट आप पढ़ सकें।

12/10/2017

अंडरवियर ना पहनने के फायदे जानिए ।

आजकल बाजार में कई तरह के महंगे अंडरवीयर मौजूद हैं। लोग टीवी पर इनका विज्ञापन देखकर आकर्षित हो जाते हैं और इन्हें खरीद लेते हैं पर उन्हें अंडरवियर पहनने से होने वाले दुष्परिणाम के बारे में कुछ भी पता नहीं होता है। आज का यह टॉपिक काफी खास है क्योंकि आज हम आपको यहां बताने वाले हैं अंडरवियर न पहनने के फायदों के बारे में।
एक शोध के अनुसार यह बात पता चला है कि अधिक तापमान से शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता को काफी नुकसान पहुंचता है। जब व्यक्ति अंडरवियर पहनता है तो तापमान भी बढ़ जाता है इसलिए ऐसी परेशानी से बचने के लिए व्यक्ति को टाइट अंडरवियर न पहनने की सलाह दी जाती है।
अंडरवियर न पहनने से पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम हो जाता है। इसके अलावा इससे वेंटिलेशन बढ़ता है और खुजली, एलर्जी और इन्फेक्शन जैसी परेशानियों से भी छुटकारा मिलता है।
प्राइवेट पार्ट की स्वच्छता पुरुषों और महिलाओ के अच्छे स्वास्थ्य के लिए काफी जरुरी होता है। अगर आप सिंथेटिक अंडरवियर पहनते हैं तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसानदेह साबित हो सकता है क्योंकि इसमें पसीना जल्दी नहीं सूखता जिससे बदबू, खुजली और इन्फेक्शन जैसी कई शिकायतें होती हैं।
अगर आप इन सभी परेशानियों से बचना चाहते हैं तो टाइट अंडरवियर बिल्कुल भी ना पहने और किसी अच्छी कम्पनी का कॉटन अंडरवियर ही पहने।
पिंपल्स से निपटने के कारगर घरेलू नुस्खे। "sex health gyan"

पिंपल्स से निपटने के कारगर घरेलू नुस्खे।


 पिंपल्स से निपटने के कारगर घरेलू नुस्खे। 

sexhealthgyan.blogspot.com


युवावस्था में हार्मोंस बदलते हैं और तनाव भी इसी वक्त सबसे ज्यादा घेरता है। युवा वर्ग ही सबसे ज्यादा खानपान संबंधी लापरवाही बरतता है। यही तीन कारण पिंपल्स के लिए जिम्मेदार हैं। आइए जानते हैं पिंपल्स से निपटने के घरेलू नुस्खे….
1⇒ हल्दी – हल्दी एंटीसेप्टिक का काम करती है। इसीलिए इसमें बैक्टीरिया से लड़ने की क्षमता पाई जाती है।
 एक चम्मच हल्दी पाउडर में थोड़ा सा पानी मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें।
 इस पेस्ट को पिंपल्स पर लगाएं। कुछ मिनट के लिए लगा रहने दें। फिर ठंडे पानी से चेहरा धो लें। ऐसा एक हफ्ते तक करें। पिंपल्स खत्म हो जाएंगे।


2⇒ पुदीना – पुदीना शरीर को ठंडक पहुंचाता है। साथ ही, इसमें एंटीसेप्टिक गुण भी पाए जाते हैं।
♦ पुदीने की कुछ पत्तियों को मिक्सर में पीस लें।
 इसका पेस्ट बनाकर उसे चेहरे पर रात को सोने से पहले लगा लें या इसे छानकर जूस निकालकर भी चेहरे पर लगा सकते हैं। इसे रातभर चेहरे पर लगा रहने दें।
 सुबह चेहरा धो लें। ऐसा हफ्ते में एक बार जरूर करें। धीरे-धीरे पिंपल्स खत्म हो जाएंगी।


3⇒ नींबू – पिंपल्स में नींबू बहुत फायदेमंद होता है। नींबू में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है।
 दो मध्यम आकार के नींबू लेकर उनका जूस निकाल लें।
 नींबू के रस को कॉटन में भिगोकर चेहरे पर लगा लें। सूख जाए तो ठंडे पानी से धो लें।
 दिन में दो बार इसे तीन-चार दिनों तक लगाएं। पिंपल्स दूर हो जाएंगे।


4⇒ लहसुन – लहसुन में एंटीफंगल तत्व पाए जाते हैं। इसीलिए यह पिंपल्स को बहुत जल्दी दूर कर देता है।
 लहसुन की दो कलियां और एक लौंग पीस लें।
 इस पेस्ट को सिर्फ पिंपल्स पर लगाएं। कुछ देर लगा रहने दें। फिर चेहरा धो लें। ऐसा करने से पिंपल्स खत्म हो जाएंगे।


5⇒ टूथपेस्ट – टूथपेस्ट का उपयोग दांतों को सफेद बनाने के लिए तो सभी करते हैं, लेकिन इसका उपयोग पिंपल्स को ठीक करने के लिए भी किया जा सकता है।
 रात को सोने से पहले पिंपल्स पर टूथपेस्ट लगाएं।
 सुबह ठंडे पानी से चेहरा धो लें। पिंपल्स पर इसका असर साफ दिखाई देगा।
 पिंपल्स पर सिर्फ सफेद टूथपेस्ट लगाना चाहिए।


6⇒ भाप – भाप पिंपल्स का एक बढ़िया इलाज है। चेहरे पर भाप लेने से रोम छिद्र खुल जाते हैं। चेहरे की गंदगी दूर हो जाती है।
 जब भी पिंपल्स की समस्या हो, चार-पांच दिनों तक दिन में दो बार चेहरे पर भाप लें।
♦ पिंपल्स खत्म हो जाएंगे और चेहरा ग्लो करने लगेगा।


7⇒ बर्फ – पिंपल्स को खत्म करने के लिए बर्फ का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
 बर्फ के टुकड़े को कॉटन में लपेटकर चेहरे पर हल्के से मसाज करें।
 तीन-चार दिन तक दिन में दो बार बर्फ से मसाज करने से पिंपल्स की ठीक हो जाएंगे।


8⇒ दालचीनी – दालचीनी को पीसकर पाउडर बना लें। इस पाउडर को एक चम्मच या दो चम्मच मात्रा में लेकर चेहरे पर लगाएं।
 ऐसा दिन में कम से कम दो बार करें। पिंपल्स दूर हो जाएंगी।

9⇒ संतरे के छिलके – संतरे के छिलकों को चेहरे के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है। संतरे के छिलकों को छांव में सुखाकर पाउडर बना लें।
 इस पाउडर को एक से दो चम्मच पानी में मिलाकर चेहरे पर लगाएं।
 आधे घंटे के बाद चेहरा धो लें। ऐसा दिन में दो से तीन बार करें।


10⇒ शहद – शहद एक नेचुरल एंटीसेप्टिक है। पिंपल्स की समस्या में यह रामबाण है।
 कॉटन बॉल को शहद में डुबोकर चेहरे पर लगाएं।
 सूखने पर चेहरा धो लें। पिंपल्स खत्म हो जाएंगे।


11⇒ पपीता – पपीता में बहुत अधिक मात्रा में एंटीआक्सीडेंट पाए जाते हैं। यह पिंपल्स को बहुत जल्दी खत्म करने की क्षमता रखता है।
 एक पपीता को छिलकर मिक्सर में पीस लें और चेहरे पर लगाएं। पपीते का जूस भी चेहरे पर लगाया जा सकता है।
 पंद्रह से बीस मिनट चेहरे पर लगा रहने दें। फिर ठंडे पानी से चेहरा धो लें।


12⇒ टमाटर – टमाटर एंटीआक्सीडेंट से भरपूर होता है। इसीलिए इसे स्किन के लिए बहुत अच्छा माना जाता है।
 टमाटर को पीसकर उसका जूस बना लें। इस जूस को छानकर चेहरे पर लगाएं। सूखने पर चेहरा धो लें।
 दिन में कम से कम दो बार ऐसा करें। पिंपल्स पर असर दिखाई देने लगेगा।


13⇒ नीम – नीम की पत्तियों को आयुर्वेद में त्वचा की बीमारियों की अचूक दवा माना गया है।
 नीम की पत्तियों को धोकर उसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं। आधे घंटे बाद चेहरा धो लें।









12/08/2017

रात भर में चेहरे से गायब हो जाएंगे मस्से, बस इस फल के छिलके का करें यूं इस्तेमाल

रात भर में चेहरे से गायब हो जाएंगे मस्से, बस इस फल के छिलके का करें यूं इस्तेमाल


 रात भर में चेहरे से गायब हो जाएंगे मस्से, बस इस फल के छिलके का करें यूं इस्तेमाल 

अगर आप भी चेहरे की खूबसूरती खराब करने वाले बिन बुलाये मेहमान मस्सों से परेशान है तो इनके दुश्मन केले से मदद ले लीजिए। केले का ये उपाय मस्‍सों को दूर कर आपके प्राकृतिक सौंदर्य को बनाए रखने में आपकी मदद कर सकता है। आइए जानते हैं मस्सों को दूर भगाने के लिए कैसे केले का इस्तेमाल किया जा सकता है। 
मस्से होने का मुख्या कारण ह्युमन पैपिल्लोमा वाइरस होता है जो आमतौर पर पिगमेंट कोशिकाओंका एक समूह होता है। मस्से अक्सर देखने में काले-भूरे रंग के होते हैं। जिनका इलाज समय पर न होने पर ये कैंसर जैसी बड़ी बीमारी का रूप ले सकते हैं। हालांकि आयुर्वेद की मदद से इनका इलाज किया जा सकता है। 



12/07/2017

जानिए किस ब्लड ग्रुप के लोगों को काटते हैं सबसे ज्यादा मच्छर

जानिए किस ब्लड ग्रुप के लोगों को काटते हैं सबसे ज्यादा मच्छर



आपने बहुत बार लोगों को यह कहते हुए सुना होगा की उन्हें मच्छर ओरों की अपेक्षा ज्यादा खाते हैंlमच्छरों का काटना आपके ब्लड ग्रुप पर निर्भर करता हैl इसके बारे में आज आपको विस्तार से बताएंगेl
अमेरिका की एक पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस में एक शोध किया गया था l इस शोध के अनुसार O ब्लड ग्रुप वाले लोगों को मच्छर ज्यादा काटते हैं l वैज्ञानिकों के अनुसार हमारे ब्लड में प्रोटीन पाया जाता हैl प्रोटीन की सबसे ज्यादा मात्रा O ब्लड ग्रुप वाले लोगों में पाई जाती हैl इस प्रकार के लोगों को A ब्लड ग्रुप वाले लोगों की तुलना में मच्छर दोगुना ज्यादा काटते हैं l इन दोनों की अपेक्षा B ब्लड ग्रुप वाले लोगों को मच्छर बहुत कम काटते हैंl

बढ़ते प्रदूषण में भी खुबसूरत दिखने के लिए ऐसे करे अपनी त्वचा के देखभाल


इन सबके अलावा मच्छरों द्वारा काटने के बहुत सारे कारण होते हैंl जो कि इस प्रकार हैl पसीने की गंध आना, रंग के आधार पर मच्छरों का काटना और बियर पीने वाले लोगों की ओर मच्छरों का आकर्षित होना इत्यादि हैl

Latest notification ke liye right side ke bell icon par click kre

12/06/2017

घर पर बनाये ग्लोइंग स्किन फेस पैक

घर पर बनाये ग्लोइंग स्किन फेस पैक




खुद को खूबसूरत दिखाने के लिए लड़कियां सभी पैतरे आजमाती है। लड़कियां कई ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करती है। लेकिन इन प्रोडक्ट्स के कई साइड का भी उन्हें सामना करना पड़ता है। इसलिए आप ये घरेलु उपाय अपनाकर भी खूबसूरत और ग्लोइंग स्किन पा सकती है.
हल्दी एक बहुत ही अच्छी जड़ी बूटी है। त्वचा के उपचार के लिये हल्दी बेहतर विकल्प है। यह त्वचा की रंगत को हल्का करता है तथा इसके उपयोग से चेहरे से मुंहासे और दानों को हटाने में मदद मिलती है। वहीँ  नींबू का प्राकृतिक अम्ल मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाता है, उम्र के चिन्हों, अनचाही झुर्रियों को हल्का करता है और बदरंग चेहरे को साफ करता है
तो सबसे पहले आप हल्दी पाउडर को नींबू रस मे मिलाकर चेहरे पर इस लेप को लगायें। 15-20 मिनट बाद पानी से धो दें। यह फेस पैक चेहरे के लिये ब्लीच का कार्य करता है और चेहरे की चमक को बढ़ाता है।

अब एक हफ्ते में दूर होंगे चेहरे से पिंपल्स,ऐसे इस्तेमाल करें



12/05/2017

शीघ्रपतन : कारण, लक्षण व उपचार | Shighrapatan Ka Desi Ilaj in Hindi

शीघ्रपतन : कारण, लक्षण व उपचार | Shighrapatan Ka Desi Ilaj in Hindi


Premature Ejaculation Causes Symptoms & Treatment in Hindi

क्या होता है शीघ्रपतन (Shighrapatan)?

शीघ्रपतन का देसी इलाजप्रीमैच्योर इजेकुलेशन जिसे हिंदी में शीघ्रपतन (Shighrapatan) या बोलचाल की भाषा में early discharge भी कहा जाता है बहुत ही कॉमन प्रॉब्लम है और सामान्यतः दुनिया भर के  30 से 40% पुरुषों में पाई जाती हैअमेरिका में The National Health and Social Life Survey (NHSLS) में पाया गया कि वहां के 30% adult males शीघ्रपतन से ग्रसित हैं. ये भी माना जाता है कि हर पुरुष अपने जीवन काल में कभी न कभी शीघ्रपतन की समस्या से ग्रस्त होता है.
इसलिए अगर आप इस समस्या से परेशान हैं तो खुद को अकेला मत समझिये, आप अकेले नहीं जूझ रहे बल्कि एक-तिहाई पुरुष जाति   आपके साथ है.  😛 लेकिन, चूँकि लोग इस बारे में openly किसी से बात नहीं करते इसलिए उन्हें लगता है कि बस वे ही इससे परेशान हैं.
शीघ्रपतन = शीघ्र + पतन , यानी जल्दी गिरना
लेकिन किस चीज का जल्दी गिरना?
वीर्य यानि sperms का जल्दी गिरना.
It means, शीघ्रपतन का अर्थ है पुरुषों के लिंग (penis) से वीर्य का जल्दी गिरना.
जब कोई male female के साथ सेक्स करता है उस समय वो अपना पेनिस फीमेल की वेजाइना में डालता है और उसे अन्दर-बाहर करता है. ये प्रक्रिया तब तक चलती है जब तक की पुरुष के पेनिस से वीर्य ( सफ़ेद चिप-चिपा पदार्थ) बाहर नहीं निकल जाता. वीर्य निकलने के बाद penis erect नहीं रह पाता और ये प्रक्रिया वहीँ ख़त्म हो जाती है
एक ideal intercourse में पुरुष और महिला दोनों ही क्लाइमेक्स तक पहुँचते हैं और दोनों के sperms discharge होते हैं. लेकिन यदि औरत के satisfy होने से पहले ही आदमी का वीर्य निकला जाता है तो औरत अपने चरम रोमांच, i.e orgasm तक नहीं पहुँच पाती और उसे सेक्स में उतना मजा नहीं आता.
डॉक्टर्स का मानना है कि यदि पुरुषों का intravaginal ejaculatory latency time (IELT) यानि योनी में लिंग जाने के बाद और वीर्य स्खलन होने के बीच का समय :
  • 1 मिनट से कम है तो पुरुष को “definite” Premature Ejaculation है.
  • 1 से डेढ़ मिनट है तो “probable” Premature Ejaculation है.
कई मामलों में शीघ्रपतन की समस्या इतनी बढ़ जाती है कि पुरुष  vaginal intercourse शुरू होने से पहले ही इजैक्युलेट कर देता है या सेक्स शुरू होने के फ़ौरन बाद ही उसका sperm discharge हो जाता है.
वैसे तो Shighrapatan की समस्या को पुरुष-महिला संबंधों से जोड़ कर ही देखा जाता है लेकिन कुछ डॉक्टर्स हस्तमैथुन के दौरान भी early discharge होने को शीघ्रपतन से जोड़ कर देखते हैं.

शीघ्रपतन के लक्षण क्या हैं? / Symptoms of premature ejaculation in Hindi

The key symptoms of premature ejaculation include:
  • बार-बार प्रयास करने पर भी सेक्स के दौरान ejaculation को 1 मिनट तक ना रोक पाना
  • सेक्स को टालना
  • Sex करने के बाद एक guilt feeling का होना कि आप partner को संतुष्ट नहीं कर पाए
  • सेक्स करने से पहले मन में शीघ्रपतन का डर आना

शीघ्रपतन के प्रकार / Types of Premature Ejaculation in Hindi

शीघ्रपतन दो प्रकार का होता है:
  • लाइफ लॉन्ग  (प्राइमरी): यह व्यक्ति को शुरू से लेकर अंत तक रहता है. यानि early discharge की प्रॉब्लम पहली बार सेक्स करने से लेकर जब तक वह सेक्स करता है तब तक बनी रहती है.
  • एक्वायर्ड (सेकेंडरी) : इस मामले में पहले व्यक्ति नॉर्मल तरीके से ejaculate करता है लेकिन बाद में उसे शीघ्रपतन की शिकायत शुरू हो जाती है.
💡 बहुत से मर्दों को लगता है कि उन्हें प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की प्रॉब्लम है, लेकिन diagnostic criteria के हिसाब से वास्तव में ऐसा नहीं होता.

शीघ्रपतन के कारण  / Shighrapatan Kaise Hota Hai

The Mayo Clinic के अनुसार अभी तक शीघ्रपतन का सटीक कारण पता नहीं लगाया जा सका है. जहाँ पहले इसे एक psychological problem समझा जाता था वहीँ अब इसे psychological और biological factors का combined effect माना जाता है.
Premature ejaculation (PE) इन कारणों से हो सकता है:
  • सेक्स करने का अनुभव ना होना
  • नए पार्टनर के साथ सेक्स करने पर PE हो सकता है
  • कुछ विशेष positions में सेक्स करने पर भी PE हो सकता है
  • बहुत दिनों के बाद सेक्स करने पर प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति आ सकती है
  • फीमेल पार्टनर को संतुष्ट करने की टेंशन
  • स्ट्रेस या चिंता, ये सम्भोग या किसी अन्य समस्या को लेकर भी हो सकती है
  • डिप्रेशन
  • किसी दवा का साइड इफ़ेक्ट
  • पेनिस के स्किन का हाइपर सेंसिटिव होना ( ऐसे मामलो में numbing creams मददगार होती हैं)
  • लड़कपन में पकड़े जाने के डर से जल्दबाजी में किया गया सेक्स बाद में भी PE cause कर सकता है
  • मन में सेक्स को लेकर guilt feeling होना कि ये गन्दी चीज है
  • इस बात की चिंता होना कि सेक्स के दौरान पेनिस देर तक खड़ा नहीं रह पायेगा, जड़ी एजैक्युलेट करने का पैटर्न बना सकता है
  • संबंधों में समस्या: यदि आप पहले किसी और के साथ सेक्स करते समय PE नहीं होता था, तो संभव है कि current partner के साथ आपके संबधों में कोई दिक्कत है, जिससे ये समस्या आ रही है.
  • हार्मोनल प्रॉब्लम
  • ब्रेन केमिकल्स का एब्नार्मल लेवल
  • Ejaculatory system की abnormal reflex activity
  • कुछ थाइरोइड सम्बन्धी समस्याएं
  • प्रोस्टेट या मूत्रमार्ग में सूजन या संक्रमण
  • अनुवांशिक कारण
  • सर्जरी या आघात के कारण नसों में हुई क्षति
  • डायबिटीज
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • प्रोस्टेट डिजीज
  • Multiple sclerosis
नोट: शीघ्रपतन को एक समस्या तभी माने जब ये बार-बार हो. कभी-कभार होना नॉर्मल है.

शीघ्रपतन का इलाज / Premature Ejaculation Treatment in Hindi

Shighrapatan Ka Desi Ilaj )

Shighrapatan Ka Desi Ilaj

1) शीघ्रपतन का घरेलू व आयुर्वेदिक उपचार / Home Remedies for Shighrapatan in Hindi

शीघ्रपतन का देसी इलाज  Shighrapatan ka desi ilaj 
i))  5 ग्राम अश्वगंधा पाउडर लेकर उसमें बराबर मात्रा में मिश्री मिलाएं और गुनगुने दूध के साथ सुबह शाम लें.  कुछ  समय तक लगातार लेने से फायदा होगा.
ii) 4-4 ग्राम मूसली पाउडर सुबह शाम खाने के बाद दूध से लेने इससे वीर्य गाढ़ा होता है जिससे शीघ्रपतन में आराम मिलता है.
iii) जामुन की गुठली का पाउडर शीघ्रपतन में बहुत फायदेमंद होता है इसे 3-3 ग्राम मात्रा में कुछ दिन लगातार लेने से फायदा मिलता है.
iv) शिलाजीत का सेवन ज्यादातर सर्दियों में किया जाता है.  इसके लिए माचिस की तीली बिना मसाले वाली side से डुबोकर जितना आये उतना शिलाजीत सुबह शाम दूध में मिलाकर लेते हैं गर्मियों में कम मात्रा में सेवन करते हैं.
v) आयुर्वेद की अनेक औषधियां शीघ्रपतन में काम ली जाती है जैसे मकरध्वज, कामिनी विद्रावण रस, अश्वगंधा चूर्ण, जाती फलादि चूर्ण, चंदनादि चूर्ण, चन्दनासव. यह सभी आयुर्वेदिक विशेषज्ञों की देखरेख में ही ली जानी चाहिए.

2) काउंसलिंग

कई बार शीघ्रपतन के रोगी के मन में अनेक भ्रम एवं भ्रांतियाँ होती हैं उन्हें काउंसलिंग द्वारा ही दूर किया जा सकता है तथा रोगी के मन में व्याप्त भय एवं चिंता काउंसलिंग के माध्यम से दूर की जा सकती है.
💡 फीमेल पार्टनर को इलाज के दौरान आदमी का पूरा साथ देना चाहिए और उसके खोये आत्मविश्वास को जगाने के लिए सेक्स का पूरा आनंद ना मिलने पर भी complaint नहीं करनी चाहिए.

3) बिहेवियरल थेरेपी

कई रोगियों में बिहेवियरल थेरेपी बहुत फायदेमंद साबित होती है:
i) हस्तमैथुन: इसमें सेक्स करने से 2 घंटा पहले हस्तमैथुन करने की सलाह दी जाती है जिससे सेक्स करते समय अर्ली डिस्चार्ज नहीं हो पाता है किंतु कई मामलों में इससे सेक्स की इच्छा एवं उत्तेजना कम हो जाती है.
ii) एक्सरसाइज
शीघ्रपतन के लिए डॉक्टर विशेष एक्सरसाइज बताते हैं जो काफी कारगर साबित हो सकती है.
a) Start एंड Stop तकनीक
इस विधि के अंतर्गत साथी मास्टरबेशन करता है जैसे ही पुरुष डिस्चार्ज होने को होता है वह अपने पार्टनर को इशारा कर देता है. पार्टनर उसी समय मास्टरबेशन रोक देता है. जैसे ही उत्तेजना कम होती है फिर से यही प्रोसीजर दुबारा से करते हैं इसमें धीरे-धीरे वीर्य स्खलन रोकने की शक्ति बढ़ जाती है.
b) Squeeze तकनीक
इस तकनीक में पार्टनर हस्तमैथुन शुरू करता है जैसे ही स्खलन होने को होता है, साथी सुपारी के हिस्से को जोर से दबा देता है, जिससे इस वीर्य का बहाव बंद हो जाता है. धीरे-धीरे अभ्यास से डिस्चार्ज का समय बढ़ जाता है.
c) Kegal Exercise  or Pelvic floor exercises
शीघ्रपतन का इलाजपेल्विक फ्लोर मसल्स का कमजोर होना देर से डिस्चार्ज करने की आपकी क्षमता को घटा सकता है. Pelvic floor exercises (Kegel exercises) इन मांसपेशियों को मजबूत करने में आपकी मदद कर सकती हैं.
  • सही मसल्स को खोजें: इसके लिए आप बीच में ही पेशाब करना रोकें, ऐसे करने के लिए  जिन मसल्स को टाइट करना पड़ रहा है वही पेल्विक मसल्स हैं.
  • एक बार पता लग जाने के बाद आप किसी भी पोजीशन में एक्सरसाइज कर सकते हैं, हालांकि शुरुआत में लेटे-लेटे एक्सरसाइज करना आसान होगा.
  • अपनी pelvic floor muscles को टाइट करें, और 3 seconds तक दबाव बनाए रखें (इसमें हाथ का प्रयोग नहीं होगा) और फिर ढीला छोड़ दें. इस तरह आप कम से कम 3 बार करें. बाद में आप ये केगल एक्सरसाइज बैठे, खड़े, या वाक करते हुए कर सकते हैं. आप दिन भर में 10 बार इस एक्सरसाइज को रिपीट कर सकते हैं. Of course, इसके लिए आपको अलग से समय निकाने की ज़रुरत नहीं है, आप office में, ट्रेवल करते हुए, या कभी भी ये एक्सरसाइज कर सकते हैं.
  • बेहतर रिजल्ट पाने के लिए आप प्रयास करें कि आपका पूरा ध्यान पेल्विक फ्लोर मसल्स पर ही हो. सावधानी बरतिए कि ऐसा करते हुए आपके जांघ या पेट की मसल्स relaxed रहें. इस दौरान आपकी सांसें भी नॉर्मल तरीके से चलनी चाहियें.
d) कंडोम का प्रयोग
Penis की sensitivity घटाने के लिए पुरुष Climax Control कंडोम का प्रयोग कर सकते हैं. इनमे numbing agents, जैसे कि  benzocaine or lidocaine लगा होता है और इनकी thickness भी अधिक होती है जिससे ejaculation delay करने में मदद मिलती है.
आप  केमिस्ट से “Durex Performax Intense” कंडोम मांग सकते हैं.

4) योग प्राणायाम

योग प्राणायाम वैसे भी संपूर्ण शरीर के लिए फायदेमंद है किंतु शीघ्रपतन की चिकित्सा में इससे विशेष लाभ मिलता है. जैसे – वज्रासन, मंडूकासन, शीर्षासन आदि.

5) आधुनिक चिकित्सा

उपरोक्त उपायों से समाधान ना होने पर आधुनिक चिकित्सा ली जा सकती है जिसमें आपको डॉक्टर से मिलकर सही दवाएं लेनी होती हैं. हालांकि, officially शीघ्रपतन के लिए कोई दवा नहीं बतायी गयी है लेकिन कुछ antidepressants को इसमें कारगर पाया गया है.
इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, व कई अन्य देशों में प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन के इलाज के लिए  dapoxetine (brand name Priligy), को लाइसेंस दिया गया है.
इस दवा के कुछ साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं, जैसे –  मतली, दस्त, चक्कर आना, और सिरदर्द
इसके अलावा कुछ local anesthetic क्रीम जैसे कि-  lidocaine and prilocaine,  भी आती हैं जो सेक्स करने से पहले पेनिस पर लगाने से early discharge की समस्या में मदद मिलती है.  लेकिन लम्बे समय तक इनका इस्तेमाल करने से लिंग erect होना बंद कर सकता है.

शीघ्रपतन के इलाज के लिए किस डॉक्टर के पास जाना चाहिए?

यदि घरेलू व अन्य  उपायों को आजमाने के बाद भी अर्ली डिस्चार्ज की समस्या बनी हुई है तो आपको किसे अच्छे Urologist को दिखाना चाहिए...